Point2point

खबरों का नया अंदाज!

12 नवंबर को छठ महापर्व का दूसरा दिन- आज है खरना

पटना: खास तौर पर उत्तर प्रदेश और बिहार के लिए सबसे बड़े त्योहार ‘छठ महापर्व’ का आज 12 नंवबंर को दूसरा दिन है। छठ पर्व का आरंभ पहले दिन 11 नवंबर को नहाय-खाए के साथ हुआ है, जिसके बाद आज दूसरे दिन खरना है, जिसे बिहार में लोहंडा को नाम से भी जानाता है।

Second day of Chhath Mahaparv

आपको बता दें कि चार दिनों तक चलने वाले छठ पर्व को काफी कठीम और पवित्र मानाया गया। नहाय-खाय के बाद लोहंडा से लेकर अगले तीन दिनों तक व्रत करने वाले भक्त उपवास रखते हैं। इससे पहले कि आप हर के बारे में बताये, यह बता दें कि दिपावली के छठे दिन छठ पर्व मनाया जाता है।

यह दिन कार्तिक शुक्ल की षष्ठी तिथि होता है, जिस दिन से छठी मइया को समर्पित पावन त्योहार का आरंभ होता है। छठ पर्व के पहले दिन नहाए-खाय, दूसरे दिन लोहंडा और तीसरे दिन शाम में डूबते हुए सूर्य को अर्घ्य दिया जाता है, जबकि चौथे और आखिरी दिन सुबह में उगते हुए सूर्य को अर्घ्य देने के साथ ही पारन होता है और इस साथ महापर्व का समापान होता है।

इस साल छठ पर्व 11 नवंबर से शुरू हो कर 14 नवंबर को समाप्त हो रहा है। छठ पर्व मुख्यत: छठी मइया और सूर्य भगवान की पूजा होती है। छठ पर्व खास तैर पर बिहार और उत्तर प्रदेश में बड़े ही धूम-धाम से मनाया जाता है। इसके अलावा झारखंड, पश्चिम बंगाल और छत्तीसगढ़ के अलावा नेपाल में छठ पर्व मयाया जाता है।

छठ पर्व के दूसरे लोहंडा या खरना के अवसर पर शाम में गुड़ की खीर और पूरी बनाकर छठी मइया को भोग लगाने के बाद, सबसे पहले इस खीर को व्रती खुद खाते हैं और फिर घर-परिवार और आस-पड़ोस के लोगों को प्रसाद के तौर पर भी खीर खिलाया जाता है।